पर्सनल लोन क्या होता है?-Personal loan kaise le ।।Personal loan information in hindi

Table of Contents

Personal loan kaise le:-

पर्सनल लोन (Personal loan kya hota hai) का मतलब है कि आपको किसी भी बैंक या एनबीएफसी से उनके निजी काम जैसे शादी, यात्रा, घर का नवीनीकरण लिए, बच्चों की उच्च शिक्षा और चिकित्सा आपात स्थिति के लिए  फंड मिलेगा । हमारे देश में पर्सनल लोन(Personal Loan in India) एक unsecured लोन है जिसका अर्थ कोई संपत्ति गिरवी नहीं रखनी है(Personal loan without collateral)और यह वर्तमान वित्तीय जरूरतों को पूरा करने में आपकी मदद करता है। यह व्यक्तिगत उद्देश्य के लिए अल्पावधि के लिए असुरक्षित सावधि ऋण(Unsecured term loan) है।

personal-loan
personal-loan

क्या है पर्सनल लोन(Best personal loans) के लिए कस्टमर सेगमेंट?

  1. वेतनभोगी व्यक्ति (वेतन>= 25,000/- रुपये)
  2. केवल निवासी भारतीय (कोई एनआरआई नहीं)
  3. केवल सरकार, पीएसयू, एमएनसी, सूचीबद्ध कंपनियों और प्रतिष्ठित सार्वजनिक और निजी लिमिटेड कंपनियों के कर्मचारी।
  4. न्यूनतम नौकरी का अवधि  कुल 3 साल का होना चाहिए। 
  5. नियोक्ता द्वारा पीएफ कटौती। 
  6. कंपनी का न्यूनतम टर्नओवर 10 करोड़ रुपये और न्यूनतम पीबीटी 1 करोड़।

पर्सनल लोन के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए?

आईटीआई डिप्लोमा जैसे तकनीकी क्षेत्रों में या न्यूनतम स्नातक या डिप्लोमा धारक होना चाहिए।

पर्सनल लोन के लिए आयु मानदंड क्या होने चाहिए?

  • पर्सनल लोन के लिए  न्यूनतम आयु: 23 वर्ष / 25 वर्ष। 
  • ऋण परिपक्वता पर अधिकतम आयु: 60 वर्ष

पर्सनल लोन(Personal loan kaise le) के लिए रोजगार मानदंड क्या होने चाहिए?

  • उधारकर्ता जिसकी कुल नौकरी  का न्यूनतम 3  वर्ष और वर्तमान नौकरी  का न्यूनतम 1 वर्ष होना चाहिए है
  • केवल पुष्ट कर्मचारियों को अनुदान। जहां वर्तमान रोजगार 6 महीने से कम है, नियोक्ता से पुष्टिकरण पत्र का दस्तावेजीकरण किया जाना है।। 

पर्सनल लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज(Personal loan kaise le):-

  • 1-     आईडी प्रूफ
  • 2-     पता प्रमाण
  • 3-     जन्मतिथि प्रमाण
  • 4-     इनकम प्रूफ 
  • 5-     सिग्नेचर प्रूफ
  • 6-     आवेदन पत्र पर फोटो (पीएसस्पोर्ट साइज फोटो)

लोन एप्लीकेशन फॉर्म:-

केवाईसी (अपने ग्राहक को जानें) know your customer

आईडी प्रूफ/जन्म प्रमाण पत्र
पासपोर्ट, पैन कार्ड, आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, सरकारी निकाय द्वारा जारी पहचान पत्र
रेजिडेंस एड्रेस प्रूफपासपोर्ट, आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, सरकारी निकाय द्वारा जारी पहचान पत्र, बिजली बिल, पानी बिल, हाउस टैक्स रिसीप्ट
इनकम प्रूफ1. नवीनतम 3 वेतन पर्ची
2.     फॉर्म 16 /फॉर्म 26 AS आईटीआर
3.     पिछले 3 महीने का बैंक स्टेटमेंट उन सभी आवेदकों के वेतन क्रेडिट को दर्शाता है जिनकी वेतन आय पर विचार किया जा रहा है।
4.     पिछले 3 महीनों के लिए कोई अन्य बैंक स्टेटमेंट जहां से आपकी EMI जा रही हो। 
नोट: – वेतन केवल सीधे बैंक क्रेडिट के माध्यम से ही
हस्ताक्षर प्रमाण पत्र1.     पासपोर्ट
२.     पैन कार्ड
3.     बैंक द्वारा सत्यापित हस्ताक्षर प्रमाण

हम ऋण पात्रता की गणना कैसे कर सकते हैं?(लोन एलिजिबिलिटी-personal loan eligibility) Personal loan kaise le

यह पूरी तरह से आपके हाथ के वेतन(इन हैंड सैलरी) और दायित्व (लायबिलिटी) पर निर्भर करता है (आपकी चल रही ईएमआई और अन्य देयता जैसे क्रेडिट कार्ड दायित्व)

हम यह सब एफओआईआर सिस्टम द्वारा गणना करते हैं (निश्चित दायित्व और आय का अनुपात)

एफओआईआर लें 60% का मतलब है कि आपका 60% वेतन ऋण के लिए योग्य है ईएमआई और 40% वेतन आपके व्यक्तिगत मासिक खर्चों जैसे परिवार और बच्चे की शिक्षा और अन्य के मासिक खर्च के लिए उपयोग किया जाएगा। यदि आपने पहले से ही एक और ऋण लिया है तो उस ऋण की ईएमआई आपकी पात्र ईएमआई से काट ली जाएगी।

यदि आपका वेतन ६०,०००/- रुपये

है, तो योग्य ईएमआई एफओआईआर है ६०००० रुपये का ६०% = ३६०००/-

और मान लीजिए कि आपका दो लोन रनिंग ईएमआई २०००/- है और ४०००/- रुपये है, कुल रनिंग लोन ईएमआई ६००० रुपये होगी। –

आपकी नई योग्य ईएमआई की तुलना में = FOIR 60% (वेतन) – चल रही ईएमआई

                                                =३६०००-६०००

                                                            = ३०,०००

इसका मतलब है कि अब आप ३०,०००/- रुपये की एक नई ईएमआई का भुगतान कर सकते हैं,

लोन अवधि और ब्याज दर(Lowest Personal Loan Interest Rate) क्या होगी?

ब्याज दर कंपनी की श्रेणी पर निर्भर करती है जिसमें कर्मचारी काम कर रहा है। यह 10.50% से 22% तक होता है। कार्यकाल 12 माह से 60 माह तक का होगा।

पर्सनल लोन में वित्तीय दायित्व(Financial liability in personal loan) कैसे निकालते है ?

किसी भी प्रकार का ऋण, बैंक या किसी अन्य स्रोत से ली गई देयता को वित्तीय दायित्व कहा जाता है जैसे कि किसी भी प्रकार का ऋण, ओडी खाता, क्रेडिट कार्ड आदि। यह किसी भी प्रकार के बकाया ऋण का प्रतिनिधित्व करता है।

ऋण आवेदन प्रक्रिया(Personal loan kaise le) के दौरान, बैंक मासिक दायित्व की गणना करता है जिसे ग्राहक हर महीने बैंक को चुकाता है। बैंक क्रेडिट कार्ड की सीमा के कुल बकाया का 5% भी गिनता है।

मासिक दायित्व= कुल चालू ऋण (ईएमआई) + ओडी ब्याज प्रति माह औसत + क्रेडिट कार्ड सीमा के कुल बकाया का 5% .. 

पर्सनल लोन के बारे में और ज्यादा पढ़े(पर्सनल लोन 2022)

क्या पर्सनल लोन को एकमुश्त या दो,तीन किस्तो मे लौटाने का क्या नियम है?

यदि आपने पर्सनल लोन लिया है और दो या तीन मुश्त में चुकाना चाहते है तो बैंक उस पर फोर क्लोज़र चार्जेज लगाएगा। यह 4% या 5 % परसेंट होगा। जो आपको देना होगा। यदि पूरा लोन एक मुश्त में चुकाना चाहते है तो चुका सकते है 5 % क्लोज़र चार्जेज के साथ।

पर्सनल लोन के लिए क्या लगेगा?

पर्सनल लोन के लिए आपको पैन कार्ड, आधार कार्ड, रेसिडेंस एड्रेस प्रूफ, ऑफिस एड्रेस प्रूफ, ऑफिस पहचान पत्र, ३ महोने की सैलरी स्लिप, ३ महीने का बैंक स्टेटमेंट, फॉर्म 16 या फॉर्म 26AS और जो आपके लोन चल रहे है उसका लोन रीपेमेंट स्टेटमेंट।

पर्सनल लोन कम दर ब्याज कैसे ले ऑनलाइन से?

पर्सनल लोन काम व्याज दर में लेने के लिए आपको ऑनलाइन किसी बैंक के वेबसाइट पर जा कर अप्लाई करना होगा , उसके बाद वहा सेल्स रिप्रेजेन्टेटिव का काल आएगा वो आपको बैंक की पालिसी के हिसाब से सारे टर्म और कंडीशन पुरे करने होंगे।

क्या पर्सनल लोन लेते समय आप फाइल प्रोसेसिंग चार्ज अग्रिम लिया जाता है?

पर्सनल लोन लेते समय आपसे फाइल प्रोसेसिंग फीस चार्ज किया जाता है जो आपको बैंक लोन अमाउंट सेंशन करता है उसे लोन अमाउंट का 2 % फाइल प्रोसेसिंग चार्ज आपसे वसूल करेगा।

क्या एक साथ पर्सनल लोन वापस करने पर कोई पेनल्टी लगती है?

यदि आपने पर्सनल लोन लिया है तो 6 महीने के अंदर आप लोन क्लोज नहीं कर सकते है क्योकि यह बैंक और कस्टमर के लोन की बीच का लॉकिंग टाइम होता है। आप पर्सनल एक मुश्त वापस करना चाहते है तो बैक आपसे 5 % फोर क्लोज़र चार्जेज वसूलेगा आपके टोटल आउट स्टैंडिंग अमाउंट(बचा हुआ लोन अमाउंट) पर।

हम पर्सनल लोन में एक साल के अंदर कितनी धन राशि जमा कर सकते है?

यदि आपने पर्सनल लोन लिया है तो 6 महीने के अंदर आप लोन क्लोज नहीं कर सकते है क्योकि यह बैंक और कस्टमर के लोन की बीच का लॉकिंग टाइम होता है। 6 महीने के बाद आप अपने बचे हुए अमाउंट का 25 % जमा कर सकते है वो भी 2 % चार्जेज के साथ।

प्राइवेट जॉब करने वालों को पर्सनल लोन मिल सकता है?

बिलकुल, प्राइवेट जॉब करने वालों को पर्सनल लोन मिलता है। यदि कोइ प्राइवेट जॉब कर रहा है और उसकी सैलरी Rs 20000/- से जयादा अकाउंट में आती है और दो साल से ज्यादा हो गया जॉब करते हुए तो उसको पर्सनल लोन मिल सकता है। यदि वह किसी ऍमनसी कंपनी में वर्किंग या भारत की किसी बड़ी कंपनी में वर्किंग है और आसानी से पर्सनल लोन मिल जाएगा।

कुछ महत्वपूर्ण ब्लॉग :-

1 thought on “पर्सनल लोन क्या होता है?-Personal loan kaise le ।।Personal loan information in hindi”

Leave a Comment

इलेक्ट्रिक कार पर लोन ऑफर। छोटे व्यापार के लिए कौन कौन से सरकारी लोन योजनाए है? पीपीएफ पर लोन लेने के क्या नियम है ? PM स्वनिधि रोजगार लोन योजना क्या है ? पर्सनल Vs क्रेडिट कार्ड। कौन बेहतर है ? बैंक का लोन नहीं चुकाया तो बैंक क्या कर सकता है? बैंक से लोन लेने पर गारंटर की क्या जिम्मेदारी होती है? ऐड-ऑन क्रेडिट कार्ड क्या होता है ? लोन लेने वाले व्यक्ति के मौत हो जाने पर बकाया भुगतान कौन करता है ? लोन गारंटर बनाने से पहले कुछ बाते जान लेना चाहिए। नहीं तो फस जायेगे आप।